ODOP to form a part of international exhibitions, events, meetings and conferences to enhance international exposure of products

source:Ministry of Commerce & Industry /Posted On: 29 AUG 2022 4:56PM by PIB Delhi

Integration of One District One Product (ODOP) initiative with Open Network for Digital Commerce (ONDC) will help in further expanding the frontiers of ODOP- Shri Piyush Goyal

Flagship programs of the Government must be converged with ODOP – Shri Goyal

ODOP to help take prosperity to the remotest regions of the nation – Shri Goyal

ODOP to form a part of international exhibitions, events, meetings and conferences to enhance international exposure of products- Shri Goyal

Minister calls for simplifying, streamlining and fast tracking the GI tagging process

Union Minister for Commerce and Industry, Consumer Affairs, Food and Public Distribution and Textiles, Shri Piyush Goyal today called for the integration of One District One Product (ODOP) initiative with Open Network for Digital Commerce (ONDC). The Minister said that ONDC would help in further expanding the frontiers of ODOP by bringing buyers and sellers together on a democratic platform. He was delivering his address after unveiling the unabridged ODOP Gift Catalog containing 300 plus products and ODOP Storefront on GeM in New Delhi today.

NKT_2495.JPG

Terming ODOP as an earnest effort to highlight the tremendous potential that the rich culture and tradition that India has to offer, Shri Goyal said that India’s districts and villages are home to crores of talented weavers, artisans and craftsmen.

The Minister observed that for many decades, the fruits of development were asymmetric and confined to some regions. He underscored that there has been a fundamental shift in thinking of the government in the last 8 years and said that ODOP is aligned with this vision of taking prosperity to each and every part of the country.

Shri Goyal stressed that India can’t develop unless remotest corners of the nation are also equal stake holders in development and benefits equally from fruits of progress.  He expressed confidence that ODOP would help bring prosperity to those at the bottom of the pyramid.

Quoting the Prime Minister, Shri Narendra Modi, Shri Goyal said that ‘each district of our country has a potential equal to that of one country…We need to understand this power and channelize this potential’.

Referring to the success that ODOP has seen in several states like Uttar Pradesh, the Minister said that convergence or ‘samanvay’ is a critical factor that would propel the success of ODOP.  Shri Goyal asked that flagship programs of the government such as Startup India, Make in India, district as export hubs etc. be converged with the vision of ODOP. He asked all the Ministries of GoI to help further expand the mandate of ODOP through complementary initiatives.

NKT_2537.JPG

The Minister asked Ministries, Departments and other government bodies to consider ODOP products exclusively for gifting purposes both within and outside India. He opined that the G20 summit which is set to take place in India soon is a great opportunity to showcase ODOP Products. He suggested that the delegates of G20 be given an exposure to ODOP products through well curated exhibitions of good quality ODOP products and tours of craft villages.

Shri Goyal also called upon students of eminent institutions like NIFT, NID and IIFT to find creative methods to amplify ODOP. The Minister also dwelt upon the need to brand ODOP products, most of which are natural and eco-friendly as sustainable and good for the planet.  In this context, Shri Goyal also called for expansion of the list of GI tagged products by simplifying, streamlining and fast tracking the GI tagging process.

The Minister also called for the expansion of availability of genuine ODOP products to counter fakes in the market and said that strict action must be taken against those who sell counterfeit products. For arts and crafts that are in crisis because of the less number of artisans engaged in their production, Shri Goyal said that more and more artisans must be trained to take up these crafts so that they may be safeguarded. 

Shri Goyal proposed 5 action agendas to make ODOP a true game changer. He asked that the ODOP catalog be made exhaustive to serve as a one stop gifting destination for Ministries, Missions, State Governments and Industry. He added that the catalogue must serve as a high quality database of high quality suppliers. He asked states to get ODOP products catalogued in a manner that it improves access and selection and to undertake Search Engine Optimization.

Speaking of the need to improve packaging, Shri Goyal said that each ODOP product has a unique story and characteristics which should be highlighted.  Shri Goyal said that there was a need to hold training sessions to help weavers/artisans with GeM onboarding and cataloguing. He opined that Common Service Centres and Post Offices could be leveraged to provide this training.

Calling for greater international engagement, the Minister said that ODOP must form a part of international exhibitions, events, meetings and conferences. He asked Indian Missions to ensure that ODOP products received international attention.

The Minister asked that for festivals and celebrations, people of the nation must consider gifting atleast one ODOP product to friends and family. I believe this is an opportune time to plan and execute this project, in order to realize our collective vision of Aatmanirbhar Bharat in this Amrit Kaal, he said.

The ODOP storefront on GeM went live with 75 categories covering products acrossStates and UTs. The purpose of the storefront is to enable direct procurement of ODOP products for gifting/ office use by various line ministries, government bodies, and foreign missions abroad. This will enable an international audience for India’s rich and diverse products.

Secretary, Department for Promotion of Industry and Internal Trade (DPIIT), Mr. Anurag Jain, who was also present at the launch, highlighted the ways in which the ODOP initiative is working to transform the lives of artisans, women, craftsmen, and farmers. He also spoke about the various programs being undertaken including exhibitions, buyer-seller meets, and registration drives.

Several Secretaries to the Government of India, senior State and UT government officials, several Industry Associations and other dignitaries were present at the ceremony.

एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) पहल को डिजिटल कॉमर्स के ओपन नेटवर्क (ओएनडीसी) के साथ जोड़ने से ओडीओपी को और विस्तार देने में मदद मिलेगी – श्री पीयूष गोयल

सरकार के प्रमुख कार्यक्रमों को ओडीओपी के साथ जोड़ा जाना चाहिए – श्री गोयल

ओडीओपी देश के सुदूर क्षेत्रों में समृद्धि लाने में मदद करेगा – श्री गोयल

उत्पादों की अंतरराष्ट्रीय पहचान बढ़ाने के लिए ओडीओपी अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों, कार्यक्रमों, बैठकों और सम्मेलनों का हिस्सा बनेगा – श्री गोयल

केंद्रीय मंत्री ने जीआई टैगिंग प्रक्रिया को सरल, सुसंगत और तेज करने का आह्वान किया

केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग, उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण और कपड़ा मंत्री श्री पीयूष गोयल ने आज डिजिटल कॉमर्स के ओपन नेटवर्क (ओएनडीसी) के साथ एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) पहल को जोड़ने का आह्वान किया। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ओएनडीसी खरीदारों और विक्रेताओं को एक लोकतांत्रिक मंच पर एक साथ लाकर ओडीओपी का और विस्तार करने में मदद करेगा। वे आज नई दिल्ली में 300 से अधिक उत्पादों वाले ओडीओपी उपहार कैटलॉग और जीईएम पर ओडीओपी स्टोरफ्रंट का अनावरण करने के बाद उपस्थि‍त लोगों को संबोधित कर रहे थे।

श्री गोयल ने ओडीओपी को भारत की समृद्ध संस्कृति और परंपरा की अपार संभावनाओं को उजागर करने का एक गंभीर प्रयास बताया। उन्होंने कहा कि भारत के जिले और गांव करोड़ों प्रतिभाशाली बुनकरों, कारीगरों और शिल्पकारों से भरे पड़े हैं।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कई दशकों से विकास एक समान रूप से नहीं हो सका था और यह कुछ क्षेत्रों तक ही सीमित था। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि पिछले 8 वर्षों में सरकार की सोच में एक मौलिक बदलाव आया है। उन्होंने कहा कि ओडीओपी देश के हर हिस्से में समृद्धि ले जाने की इसी सोच के साथ जुड़ा हुआ है।

श्री गोयल ने जोर देकर कहा कि भारत तब तक विकसित नहीं हो सकता जब तक कि देश के दूर-दराज के इलाके भी विकास में समान रूप से हितधारक न हों और प्रगति के फल से समान रूप से लाभान्वित न हों। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि ओडीओपी समाज के पिरामिड के निचले हिस्से में रहने वालों के लिए समृद्धि लाने में मदद करेगा।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का हवाला देते हुए श्री गोयल ने कहा कि ‘हमारे देश के प्रत्येक जिले में एक देश के बराबर क्षमता है…हमें इस शक्ति को समझने और इस क्षमता का सही तरीके से इस्तेमाल करने की जरूरत है।’

उत्तर प्रदेश जैसे कई राज्यों में ओडीओपी को मिली सफलता का जिक्र करते हुए केंद्रीय मंत्री श्री गोयल ने कहा कि समन्वय एक महत्वपूर्ण कारक है जो ओडीओपी की सफलता को आगे बढ़ाएगा। श्री गोयल ने कहा कि स्टार्टअप इंडिया, मेक इन इंडिया, निर्यात हब के रूप में जिला आदि जैसे सरकार के प्रमुख कार्यक्रमों को ओडीओपी के विजन के साथ जोड़ा जाए। उन्होंने भारत सरकार के सभी मंत्रालयों से पूरक पहलों के माध्यम से ओडीओपी के जनादेश का और विस्तार करने में मदद करने के लिए कहा।

केंद्रीय मंत्री ने मंत्रालयों, विभागों और अन्य सरकारी निकायों से कहा कि वे देश के अंदर और बाहर दोनों जगहों पर ओडीओपी उत्पादों को विशेष रूप से उपहार स्वरूप देने के लिए विचार करें। उन्होंने कहा कि जल्द ही भारत में होने वाला जी20 शिखर सम्मेलन ओडीओपी उत्पादों को प्रदर्शित करने का एक शानदार अवसर है। उन्होंने सुझाव दिया कि जी20 के प्रतिनिधियों को अच्छी गुणवत्ता वाले ओडीओपी उत्पादों की प्रदर्शनियों और शिल्प गांवों के दौरों के माध्यम से ओडीओपी उत्पादों से परिचित कराया जाए।

श्री गोयल ने निफ्ट, एनआईडी और आईआईएफटी जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों के छात्रों से ओडीओपी को आगे बढ़ाने के लिए रचनात्मक तरीके खोजने का भी आह्वान किया। उन्होंने ओडीओपी उत्पादों को ब्रांड करने की आवश्यकता पर भी जोर दिया, जिनमें से अधिकांश प्राकृतिक और पर्यावरण के अनुकूल हैं और हमारी धरती के लिहाज से भी अच्छे हैं। इस संदर्भ में, श्री गोयल ने जीआई टैगिंग प्रक्रिया को सरल, सुसंगत और तेज करते हुए जीआई टैग उत्पादों की सूची का विस्तार करने का भी आह्वान किया।

केंद्रीय मंत्री ने बाजार में नकली उत्पादों का मुकाबला करने के लिए वास्तविक ओडीओपी उत्पादों की उपलब्धता बढ़ाने का भी आह्वान किया और कहा कि नकली उत्पाद बेचने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। श्री गोयल ने कहा कि कारीगरों की कम संख्या के कारण कला और शिल्प संकट में हैं। उन्होंने कहा कि इन शिल्पों में अधिक से अधिक कारीगरों को प्रशिक्षित किया जाना चाहिए ताकि इन शिल्पों की सुरक्षा की जा सके।

श्री गोयल ने ओडीओपी को एक वास्तविक बदलावकारी पहल (गेम चेंजर) बनाने के लिए 5 कार्य एजेंडे का प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि ओडीओपी का एक संपूर्ण कैटलॉग तैयार किया जाना चाहिए ताकि मंत्रालयों, मिशनों, राज्य सरकारों और उद्योग को वन स्टॉप गिफ्टिंग डेस्टिनेशन के रूप में सेवा मिल सके। उन्होंने कहा कि यह कैटलॉग ऐसा हो जो उच्च गुणवत्ता वाले आपूर्तिकर्ताओं के उच्च गुणवत्ता वाले डेटाबेस के रूप में काम करे। उन्होंने राज्यों से ओडीओपी उत्पादों को इस तरह से सूचीबद्ध करने के लिए कहा कि इन तक सबकी पहुंच बढ़े, इनका चयन करना आसान हो और सर्च इंजन अनुकूल रहे।

श्री गोयल ने पैकेजिंग में सुधार की आवश्यकता के बारे में बताते हुए कहा कि प्रत्येक ओडीओपी उत्पाद की एक अपनी कहानी और विशेषताएं होती हैं जिन पर प्रकाश डाला जाना चाहिए। श्री गोयल ने कहा कि जीईएम पर जाने और कैटलॉग बनाने में बुनकरों/कारीगरों की मदद करने के लिए प्रशिक्षण सत्र आयोजित करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इस प्रशिक्षण को प्रदान करने के लिए सामान्य सेवा केंद्रों और डाकघरों का लाभ उठाया जा सकता है।

अधिक अंतरराष्ट्रीय भागीदारी का आह्वान करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ओडीओपी को अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों, कार्यक्रमों, बैठकों और सम्मेलनों का एक हिस्सा बनाना चाहिए। उन्होंने भारतीय मिशनों से यह सुनिश्चित करने को कहा कि ओडीओपी उत्पादों की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मांग बढ़े।

श्री गोयल ने कहा कि देश के लोगों को त्योहारों और समारोहों के मौके पर अपने मित्रों और परिवार को कम से कम एक ओडीओपी उत्पाद उपहार में देने पर विचार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि मेरा मानना​है कि इस अमृत काल में आत्मनिर्भर भारत की हमारी सामूहिक दृष्टि को साकार करने के लिए इस परियोजना की योजना बनाने और उसे पूरा करने का यह एक सही समय है।

जीईएम पर ओडीओपी स्टोरफ्रंट 75 श्रेणियों के साथ उपलब्ध है, जिसमें राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के उत्पाद शामिल हैं। इस स्टोरफ्रंट का उद्देश्य विभिन्न मंत्रालयों, सरकारी निकायों और विदेशी मिशनों द्वारा उपहार/कार्यालय उपयोग के लिए ओडीओपी उत्पादों की सीधी खरीद को सक्षम बनाना है। यह भारत के समृद्ध और विविध उत्पादों के बारे में जानने में अंतरराष्ट्रीय लोगों को सक्षम करेगा।

उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईची) के सचिव श्री अनुराग जैन ने बताया कि किस तरह यह ओडीओपी पहल कारीगरों, महिलाओं, शिल्पकारों और किसानों के जीवन को बदलने के लिए काम कर रही है। श्री जैन इसकी लॉन्चिंग में भी मौजूद थे। उन्होंने प्रदर्शनियों, क्रेता-विक्रेता बैठक और पंजीकरण अभियान सहित विभिन्न कार्यक्रमों के बारे में भी बताया।

समारोह में भारत सरकार के कई सचिव, राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के वरिष्ठ अधिकारी, कई उद्योग संघ और अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s